Skip to main content

मजलिस जमींदार majlis jamidar



 अंग्रेजो के खिलाफ 1857 में हुई क्रांति के दौरान क्षेत्र के करीब 84 महान सपूतों ने अपने प्राणों
की आहूति दी थी। उन शहीदों की याद मे जिले में पार्क, मुख्य मार्गो पर उनकी प्रतिमा लगाने व जिला मुख्यालय पर
शिलालेख लगवाने की मांग को लेकर शहीद स्मृति संस्थान के तत्वावधान में बृहस्पतिवार को दादरी के जीटी रोड स्थित
राव उमराव सिंह स्मारक से तिलपता, देवला, सूरजपुर होता हुए जिला मुख्यालय तक पदयात्रा निकाली गई। उपरोक्त 
मांगों से संबंधित एक ज्ञापन भी संस्थान ने मुख्यमंत्री के नाम जिलाधिकारी को सौंपा। बृहस्पतिवार को सुबह दस बजे 
शहीद स्मृति संस्थान के संयोजक राव संजय भाटी के नेतृत्व में बड़ी संख्या में लोग दादरी के जीटी रोड स्थित राव उमराव
 की प्रतिमा स्थल पर एकत्रित हुए। पदयात्रा तिलपता, देवला और सूरजपुर स्थित होते हुए जिला मुख्यालय पहुंची।
राव संजय भाटी ने बताया कि 1857 में अंग्रेजों के खिलाफ हुई क्रांति में करीब 84 सपूतों ने अंग्रेजों को उखाड़ने के लिए
लड़ाई लड़ी थी। परिणाम स्वरूप ब्रिटिश सरकार ने उस समय क्षेत्र के करीब 84 क्रांतिकारियों को बुलंदशहर के काला आम
पर गुप्त रूप से मृत्युदंड दे दिया था। इनमें दादरी रियासत के राव बिशन सिंह, राव भगवंत सिंह, राव उमराव सिंह,
अट्टा के इंदर सिंह, नत्थू सिंह, जुनेदपुर के दरियाव सिंह, बील के हरदेव सिंह, लुहारली के मजलिस जमींदार, देवटा के
दान सहाय, महपा के ठाकुर देवी सिंह भाटी समेत 84 क्रांतिकारी शामिल थे।जिलाधिकारी को दिए मुख्यमंत्री अखिलेश 
के नाम ज्ञापन में कहा गया कि आज छह दशक बाद भी इन महान बलिदानियोंको सरकार उचित सम्मान नहीं दे पायी है। 
उन शहीदों को सम्मान दिलाने के लिए शहीद स्मृति संस्थान एक दशक से प्रयासरत है। ज्ञापन में क्षेत्र के क्रांतिकारियों 
की याद में जिला मुख्यालय पर शिलालेख लगवाने, शहीद स्मारक बनवाने,दादरी में राव उमराव की प्रतिमा की 
चारदीवारी करवाने, जिले के सड़कों, पार्को, व सेक्टरों के नाम शहीदों के नाम पर रखे जाने, प्रदेश के शिक्षण पाठयक्रमों में 
शहीदों की जीवनी शामिल करने आदि की मांग की गई। पद यात्रा में किसान नेता मनवीर भाटी, भाजपा नेता सुनील 
भाटी, राधाचरण भाटी, दिनेश भाटी समेत दर्जनों लोग मौजूद थे। वहीं दूसरी ओर गुर्जर समाज उत्थान मिशन ने 
बृहस्पतिवार की शाम ग्रेटर नोएडा के परी चौक स्थित गुर्जर संस्कृति शोध संस्थान में 1857 के शहीदों की याद में कैंडल 
मार्च का आयोजन किया। कैंडल मार्च में भारी संख्या में लोगों ने भाग लेकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर 
सपा नेता राजकुमार भाटी, डॉ. रुपेश वर्मा, इलम सिंह नागर, कृष्ण कांत सिंह,कुलदीप नागर, सुनील फौजी, यशवीर गुर्जर,
 जितेंद्र भाटी, श्यामवीर भाटी, राजेश भाटी, सुरेंद्र नागर, वीर सिंह नागर आदि मौजूद थे।

Comments

Popular posts from this blog

dayaram khari gurjar






 दयाराम खारी गुर्जर (1857 की क्रांति) :दयाराम गुर्जर दिल्ली मे चन्द्रावल गांव के रहने वाला थे ।1857 ई0 क्रान्ति में दिल्ली के आसपास के गुर्जर अपनी ऐतिहासिक परम्परा के अनुसार विदेशी हकूमत से टकराने के लिये उतावले हो गये थे । दिल्ली के चारों ओर बसे हुए तंवर, चपराने, कसाने, भाटी, विधुड़ी, अवाने खारी, बासटटे, लोहमोड़, बैसौये तथा डेढ़िये वंशों के गुर्जर संगठित होकर अंग्रेंजी हकूमत को भारत से खदेड़ा । गुर्जरों ने शेरशाहपुरी मार्ग मथुरा रोड़ यमुना नदी के दोनों किनारों के साथ-2अधिकार करके अंग्रेंजी सरकार के डाक, तार तथा संचार साधन काट कर कुछ समय के लिए दिल्ली अंग्रेंजी राज समाप्त कर दिया था। ।दयाराम गुर्जर के नेतृत्व में गुर्जरों ने दिल्ली के मेटकाफ हाउस को कब्जे में ले लिया । जो अंग्रेंजों का निवास स्थान था, यहा पर सैनिक व सिविलियम उच्च अधिकारी अपने परिवारों सहित रहा करते थे । जैसे ही क्रान्ति की लहर मेरठ से दिल्ली पहुंची, दिल्ली के गुर्जरों में भी वह जंगल की आग की तरफ फैल गई। दिल्ली के मेटकाफ हाउस में जो अंग्रेंज बच्चे और महिलायें उनको जीवनदान देकर गुर्जरों नेअपनी उच्च परम्परा का परिचय दिय…

कर्नल जेम्स टोड द्वारा गुर्जर शिलालेखो का विवरण | Inscription of Gurjar History by Rajput Historian James Tod

कर्नल जेम्स टोड द्वारा गुर्जर शिलालेखो का विवरण | Inscription of Gurjar History by Rajput Historian James Tod कर्नल जेम्स टोड द्वारा गुर्जर शिलालेखो का विवरण | INSCRIPTION OF GURJAR HISTORY BY RAJPUT HISTORIAN JAMES TOD 
• कर्नल जेम्स टोड कहते है कि राजपूताना कहलाने वाले इस विशाल रेतीले प्रदेश अर्थात राजस्थान में, पुराने जमाने में राजपूत जाति का कोई चिन्ह नहीं मिलता परंतु मुझे सिंह समान गर्जने वाले गुर्जरों के शिलालेख मिलते हैं।

• प्राचीन काल से राजस्थान व गुजरात का नाम गुर्जरात्रा (गुर्जरदेश, गुर्जराष्ट्र) था जो अंग्रेजी शासन मे गुर्जरदेश से बदलकर राजपूताना रखा गया।


नागौर के कुचामन किले का इतिहास Kuchaman Fort History

कुचामन किले का इतिहास - Kuchaman Fort History नागौर के कुचामन किले का इतिहास 
कुचामन का किला राजस्थान के नागौर में स्थित है। यह किला राजस्थान के सबसे पुराने किलों में से है। यह किला पर्वत के सबसे ऊपरी हिस्से पर स्थित है जैसे के एक चील का घोंसला होता है । इसका निर्माण गुर्जर प्रतिहार वंश के महान गुर्जर सम्राट नागभट्ट प्रथम ने 750 ईo में कराया।।  गुर्जर प्रतिहार साम्राज्य का संस्थापक "गुर्जर सम्राट नागभट्ट" द्वारा निर्मित यह किला राजस्थान में है। गुर्जर प्रतिहार वंश के शासनकाल में ऐसे कई किलो का निर्माण हुआ जिसमे मण्डौर, जालौर, कुचामन, कन्नौज, ग्वालियर के किले गुर्जर प्रतिहार राजाओं के अत्यधिक मात्रा में समृद्धि होने के  का प्रमाण देते है। छठवीं शताब्दी से लेकर ग्यारहवीं शताब्दी तक इस प्रबल गुर्जर राजवंश ने हिन्दू धर्म को भारत से विलुप्त होने से बचाया है। लेकिन इनके कर्ज का बदला इनके इतिहास को विलुप्त करके दिया हमारे देश मे ।  300 वर्षो तक अगर विदेशी अरबों की आंधी को रोकने का पूर्णतयः श्रेय अगर किसी को जाता है तो वह केवल गुर्जर प्रतिहार राजवंश को है जिसने हरिश्चन्द्र,…